mobile header
28 May 2019 बिज़नेस बिशेष: हिा को साफ करने के बिए चार नए आबिष्कार

िायु प्रदूषण के बििाफ िैबिक अबियान जोर पकड़ने के साथ, चुनौबियों का समाधान ढूूंढने के बिए आगे आ रहे निप्रिितक ऐसे नए उत्पाद और िकनीकें बिकबसि कर रहे हैं जो...

Story

िायु प्रदूषण के बििाफ िैबिक अबियान जोर पकड़ने के साथ, चुनौबियों का समाधान ढूूंढने के बिए आगे आ रहे निप्रिितक ऐसे नए उत्पाद और िकनीकें बिकबसि कर रहे हैं जो साूंसों के साथ हमारे फेफड़ों में जाने िािे और जििायु पररिितन िीव्र करने िािे ििरनाक जहरीिे पदाथों को कम करने में कुछ हद िक सफि रही है।

बिि स्िास््य सूंगठन (WHO) के अनुसार, हर साि िायु प्रदूषण के कारण िगिग 70 िाि िोगों की अकाि मृत्यु हो जािी है। इसका अथत यह है कक हर घूंटे िगिग 800 मौिें हो रही हैं। िेककन इन दुिद आूंकड़ों के िीच अच्छी ििर यह है कक इस कदशा में आिश्यक कारतिाई को िेकर आम िोगों में जागरूकिा िढी है।

िायु प्रदूषण को माि देने के बिए यहाूं चार निप्रिितक उद्यबमयों और उनकी अत्याधुबनक िकनीकों का बििरण कदया गया है:

बिशेष पेंट मैबससको के बिबि बचत्रों को कुछ जादुई क्षमिाएूं प्रदान करिा है

मैबससको शहर एक ओर जहाूं धुूंध (स्मॉग) के बिए कुख्याि है, िहीं यह अपने शानदार बिबि बचत्रों के बिए िी बििबिख्याि है, और अि इन दोनों बिशेषिाओं का अनूठा सूंगम शहर की हिा के बिए िरदान िनने िािा है। एब्सोल्यूट स्रीट रीी्ज़ इबनबशएरटि उन किाकारों का एक समूह है, जो शहर के बिशािकाय बिबि बचत्रों को पेंट करने के बिए एयरिाईट पेंट का उपयोग करिे हैं, एक ऐसा पेंट जो प्रकाश सूंश्लेषण से बमििी जुििी प्रकिया द्वारा प्रदबू षि िायु को शुद्ध करिा है।

इस प्रकार का एक भित्ति चित्र - शहर के व्यस्त पेसियो डी ला रिफॉर्मा बुलेवार्ड पर बना 35-मीटर का एक विशाल वृक्ष - स्पेनिश कलेक्टिव बोआ मिस्तुरा द्वारा निर्मित किया गया, जबकि मैक्सिको के कलाकार रेवोस्ट और सेहर वन दो अन्य भित्ति चित्रों को पेंट कर रहे हैं। यह प्रोजेक्ट फ्रांसीसी शराब निर्माता पेरनोड रिकार्ड द्वारा प्रायोजित किया गया है।

यह पेंट जब धूप के संपर्क में आता है, तो यह एक रासायनिक अभिक्रिया के माध्यम से आसपास की हवा का ऑक्सीकरण कर देता है। इस प्रोजेक्ट के प्रणेताओं का दावा है कि इस प्रकार के भित्ति चित्र एक साल में लगभग 60,000 वाहनों द्वारा पैदा किए गए प्रदूषण के बराबर के प्रदूषकों को बेअसर करने में सक्षम होने चाहिए। यह पेंट लगभग 10 साल तक चलता है।

रेवोस्ट ने एक वीडियो में बताया, "कला अब परिवर्तन का हिस्सा बन चुकी है क्योंकि यह अब केवल एक तस्वीर या किताब तक ही सीमित नहीं है, बल्कि अब यह सड़कों पर चुकी है और शहर का एक हिस्सा बन चुकी है। मुझे इस बात की बेहद खुशी है कि मैं अपने काम के माध्यम से पर्यावरण में बदलाव ला पा रहा हूं।"

 

image
बायोसोलर लीफ। आर्बोरिया द्वारा फोटो

 

बायोसोलर लीफ जो 100 पेड़ों के बराबर काम करेगी

इंपीरियल कॉलेज, लंदन के वैज्ञानिक दुनिया के पहले बायोसोलर लीफ आधारित स्टार्ट-अप अर्बोरिया के साथ मिलकर काम कर रहे हैं - इसमें एक विशाल पैनल को छोटे-छोटे पौधों से ढंका जाता है, और यह एक पेड़ के सतही क्षेत्रफल द्वारा 100 पेड़ों के बराबर दर से कार्बन डाइऑक्साइड का अवशोषण और ऑक्सीजन का उत्सर्जन करता है। इसे विकसित करने की प्रक्रिया जैविक बायोमास उत्पन्न करती है जिससे आर्बोरिया पादप आधारित खाद्य उत्पादों के लिए खाद्य योजकों का निष्कर्षण करता है।

इम्पीरियल कॉलेज लंदन में विश्वविद्यालय के व्हाइट सिटी कैंपस में बिल्डिंग से पैदा होने वाले पर्यावरणीय प्रभाव को कम करने के लिए एक आउटडोर पायलट विकसित करने के लिए आर्बोरिया को वित्तीय सहायता प्रदान करेगा।

लंदन में लगभग बीस लाख लोग अवैध वायु प्रदूषण के साथ जीवन-यापन करने के लिए मजबूर हैं, वहीं शहर के अधिकारियों का कहना है कि वे इन विषाक्त पदार्थों से निपटने के लिए दृढ़संकल्प हैं। इंपीरियल कॉलेज के प्रोफेसर नील अल्फोर्ड कहते हैं, "वायु प्रदूषण लंदन की सबसे तत्काल चुनौतियों में से एक है। हालांकि हमारे व्हाइट सिटी मास्टरप्लान के माध्यम से, हम टिकाऊ समाधानों को लागू करने का प्रयास कर रहे हैं जो पश्चिम लंदन सहित पूरे यूनाइटेड किंगडम और दुनिया भर में पर्यावरणीय परिणामों में सुधार करने की क्षमता रखते हैं।"

जब पेड़ सिर्फ पेड़ ना रहे? बल्कि शहर का एक हिस्सा बन जाए

जर्मनी के स्टार्ट-अप ग्रीन सिटी सॉल्यूशंस की लकड़ी के बेंचों पर बनी मॉस लिविंग दीवारें, दुनिया की पहली इंटेलिजेंट बायोटेक एयर फिल्टर हैं - और शहर में घंटों टहलने के बाद आपको आराम से बैठने के लिए इससे बेहतर जगह नहीं मिलेगी।

यह दीवार विभिन्न प्रकार के मॉस से बनी होती है, जो प्राकृतिक रूप से प्रदूषकों को अवशोषित करती है। इन मॉस को छायादार पेड़ों की ओट में छिपाना पड़ता है, अन्यथा ये शहरी वातावरण में जीवित नहीं रह पाती हैं। इसके इंस्टालेशन के लिए सौर पैनल के माध्यम से उर्जा प्राप्त होती है, यह पैनल वर्षा के पानी को भी इकट्ठा करता है और इसे एक इनबिल्ट सिंचाई प्रणाली के माध्यम से पुनर्वितरित करता है। इस प्रकार से यह लिविंग वॉल आसपास मे वातावरण में ठंडक पैदा करती है।

कंपनी का कहना है कि, “कुछ मॉस प्रजातियों की वायु से कणीय प्रदूषकों और नाइट्रोजन ऑक्साइड जैसे प्रदूषक पदार्थों को फिल्टर करने की क्षमता उन्हें आदर्श प्राकृतिक वायु शोधक बनाती है। लेकिन शहरों में, जहां वायु शुद्धिकरण एक बड़ी चुनौती है, वहां पानी और छाया की आवश्यकता के कारण मॉस का पनप पाना बहुत मुश्किल हो जाता है। इस समस्या का समाधान अद्वितीय इंटरनेट ऑफ थिंग्स तकनीक के माध्यम से अलग-अलग मॉसेज को पूरी तरह से स्वचालित रूप से पानी और पोषक तत्व प्रावधान के साथ जोड़कर किया जा सकता है

दीवार के निर्माताओं का कहना है कि यह दीवार जमीन के बस एक छोटे से हिस्से का उपयोग करके सैकड़ों पेड़ों के बराबर प्रदूषण को अवशोषित कर सकती है।

पिछले साल, रियल एस्टेट कंपनी क्राउन एस्टेट ने लंदन के व्यस्त पिकैडिली सर्कस के पास एक ऐसी ही दीवार स्थापित की थी। इसके अलावा पेरिस और बर्लिन में भी इस प्रणाली का परीक्षण किया गया है।

वेस्टमिंस्टर सिटी काउंसिल के डेविड हार्वे, जिन्होनें लंदन में इस प्रकार की दीवार की स्थापना का समर्थन किया था, कहते हैं, "वायु की गुणवत्ता हमारे नागरिकों के लिए चिंता का प्रमुख विषय है, अब जबकि हर दिन लगभग दस लाख लोग हमारे आस-पास आवागमन करते हैं, यह बात बहुत जरूरी हो जाती है कि हम अपने निवासियों और आगंतुकों के लिए हवा को साफ करने के लिए और खराब वायु गुणवत्ता से निपटने के लिए अधिक गंभीरता से प्रयास करें।"

स्मॉग को कम करने के लिए विशेष रूफिंग ग्रैन्युल्स वाले मकान

संयुक्त राज्य अमेरिका की जानी मानी मैन्युफैक्चरिंग कंपनी 3M ने स्मॉग को कम करने वाले ग्रैन्युल्स को डिज़ाइन किया है जो छत की मुंडेर को प्रदूषण-से लड़ने वाली सतह में बदल देते हैं। रूफिंग ग्रैन्युल्स का इस्तेमाल अक्सर छतों पर लेपन करने और मकान को पराबैंगनी किरणों से बचाने के लिए होता है, जिससे इमारतों को ठंडा रखने में और एयर कंडीशनिंग पर निर्भरता कम करने में मदद मिलती है।

3M ने अपने नए ग्रैन्युल्स को एक फोटोकैटलिटिक कोटिंग के साथ डिज़ाइन किया है जो सूर्य की पराबैंगनी किरणों द्वारा सक्रिय होता है, स्मॉग वाली हवा में मौजूद रसायनों से बंधित होने वाले मूलकों (रेडिकल) का निर्माण करता है और इन खतरनाक रसायनों को पानी में घुलनशील आयनों में बदल देता है जो अंततः धोने की प्रक्रिया द्बारा वायुमंडल से हटा दिए जाते हैं।

लॉरेंस बर्कले नेशनल लेबोरेटरी के परीक्षणों में पाया गया कि इस प्रकार के ग्रैन्युल्स से लेपित एक औसत आकार की छत तीन पेड़ों के बराबर क्षमता से प्रदूषकों को हटा सकती है।

एक गैर-लाभकारी संस्था क्लाइमेट रिज़ोल्व के संस्थापक और कार्यकारी निदेशक, जोनाथन परफ्रे कहते हैं कि, "हम स्मॉग को कम करने वाली तकनीक को मुख्य छत-निर्माण (रूफिंग) सामग्री से जोड़कर देखते हैं, जो हवा की गुणवत्ता और जलवायु संबंधी चिंताओं को दूर करने की दिशा में एक बेहतरीन कदम है।"

 

इस बार 5 जून 2019 को मनाए जाने वाले विश्व पर्यावरण दिवस का विषय वायु प्रदूषण रखा गया है। हम जिस हवा में सांस ले रहे हैं उसकी गुणवत्ता कैसी होगी, यह हमारी जीवनशैली और उसके लिए हमारे द्वारा चुने गए विकल्पों पर निर्भर करता है। वायु प्रदूषण आपको कैसे प्रभावित करता है, और हवा को साफ करने के लिए क्या-क्या किया जा रहा है, इसके बारे में और जानें। और हां, आप अपने उत्सर्जन पदचिन्हों को कम करने और वायु प्रदूषण से मुकाबला करने #करेंगेसंगवायुप्रदूषणसेजंग के लिए क्या कदम उठा रहे हैं?

2019 विश्व पर्यावरण दिवस चीन द्वारा आयोजित किया जाएगा।

Recent Stories
Story

कलाकार, अपने आस-पास की दुननया से प्रेरणा लेते हैं। इसनलए यह कोई आश्चयय की बात नहीं है कक कुछ कलाकारों ने हमारे समय की एक सबसे दबावकारी पयायवरणीय…